22.3 C
New York
Sunday, May 29, 2022

Information About Lily Flower in Hindi | लिली फूल की जानकारी

दोस्तों आज हम बात करने जा रहे हैं फूलो के बारे में वैसे तो फूल हर किसी को पसंद होते है और आज हम बात करने जा रहे है लिली फूल के बारे में (Lily flower in Hindi) लिली फूल दुनिया के सबसे खूबसूरत फूलो में से एक है और इस फूल से काफी अच्छी खुशबू भी आती है

वैसे कुछ लोगो का सवाल होता है की लिली की फूल कैसा होता है ? तो दोस्तों आपको बता दें की लिली का फूल कई रंगो में होता है और यह कई प्रजाति में भी होता है और इसके अपनी प्रजाति के अनुसार रंग होते है।

दोस्तों कुछ लोग तो peace lily को ही लिली का पौधा समझते है लेकिन ऐसा नहीं है peace lily एक Indoor plant है जिसे घर के अंदर रखा जाता है और लिली के पौधे को गार्डन में लगाया जाता है ये दोनों अलग अलग होते हैं।

आपको बता दें की कुछ प्रजातियों में ये लाल रंग का होता है और कुछ में ये ऑरेंज और सफ़ेद और भी कई रंगो में पाए जाते है और ऐसी ही और भी amazing जानकारी आपको इस आर्टिकल में मिलेगी तो इस आर्टिकल को लास्ट तक जरूर पढ़ें।

दोस्तों लिली का फूल बहुत ही ज्यादा खूबसूरत और आकर्षित होता है इस फूल की पूरी दुनिया के काफी प्रजातियां पायी जाती है और अगर आप अपने घर में ये फूल लगाते हैं तो यह आपके घर की खूबसूरती भी बढ़ाते हैं।

दोस्तों लिली का पौधा अपने घर में लगाने के भी बहुत फायदे हैं लिली का पौधा घर की हवा को शुद्ध करने में मदद करता है और ये पौधा पूरी तरह से शुद्ध भी होता है इस पौधे को लगाने के लिए आपको ज्यादा चीजों की जरूरत नहीं होती है आप बहुत ही आसानी से इस पौधे लगा सकते हैं।

लिली फूल का मतलब | Lily Flower Meaning in Hindi

नामअर्थ
Lilyकुमुदिनी
Lilyकुमुद
Lilyलिली
Lilyकमलिनी
Lilyनरगिस
Lilyनलिनी
Lilyसोसन
Lilyमनहरण

लिली के फूल की जानकारी | Information About Lily Flower In Hindi

lily flower in hindi
image by pixabay

दोस्तों लिली का पौधा सबसे ज्यादा घरो में लगाया है इसकी पूरी दुनिया में लगभग 40 से ज्यादा प्रजातियां पायी जाती है यह फूल ज्यादातर दक्षिणपूर्वी एशिया और अमेरिका में पाया जाता है।

लिली का फूल (Lily ka Phool) आमतौर पर वसंत ऋतू के मौसम में ही खिलते है और इन फूलो को छाया पसंद होती है इसलिए इन्हे गर्मियों में धुप में नहीं रखना चाहिए यह फूल छोटे आकार के होते हैं और देखने में बहुत ही सुन्दर और आकर्षित लगते हैं।

वैसे तो लिली के पौधे का जीवन काल 5 साल का होता है लेकिन बहुत से लोग इसकी ज्यादा देखभाल नहीं कर पाते इसलिए ये जल्दी सूख जाते हैं और इन्हे लगता है की शायद इनकी उम्र ही कम है लिली का पौधा ऐसा होता है की इनकी जितनी देखभाल होती है यह उतने ही ज्यादा फूल देते हैं और सुन्दर दिखाई देते हैं।

लिली के फूल के बारे में कुछ और जानकारी | Some More Information Lily Flower In Hindi

lily flower meaning in Hindi

दोस्तों लिली का फूल दुनिया के ज्यादातर देशो में उगाया जाता है खासकर यह भारत, अमेरिका और कनाडा जैसे देशो में ज्यादा उगाया जाता है और यूरोप में इस फूल को लोग घरो की सजावट के लिए भी इस्तेमाल करते हैं।

लिली के फूल प्रजातियों के हिसाब से अलग अलग रंगो में पाए जाते हैं जैसे यह फूल  लाल, सफ़ेद, पिले, गुलाबी, और नारंगी रंग के पाए जाते हैं और इनकी नार्मल प्रजाति टाइगर लिली, ईस्टर लिली, पीस लिली, और सफ़ेद लिली है। 

लिली के पौधे को बल्ब के जरिये उगाया जाता है बल्ब एक प्रकार का तना होता है जिसे मौसम के अनुसार लगाया जाता है और इसे आलू तरह बोया जाता है लिली के पौधे लगभग 5 फुट तक बड़े हो जाते हैं लेकिन कुछ प्रजाति के पौधे थोड़े छोटे होते हैं।

लिली के फूल से निकलने वाले फूल को नेक्टर कहते हैं और इसके हर फूल में 6 पंखुड़ी होती है जो इसको काफी खूबसूरत बनाती है और इनमे रस भी पाया जाता है लिली के पौधे की पत्तियां लम्बी और हलके गहरे रंग की होती है।

लिली के फूल का परागण हवा के जरिये भी होता है इसकी पत्तियों में काफी मात्रा में रस भरा होता है जिससे कीड़े मकोड़े फूल की तरफ आकर्षित होते हैं।

लिली के फूल को हिंदी में क्या कहते हैं ?

लिली के फूल का लिली नाम अंग्रेजी भाषा का है मतलब इस फूल को लिली अंग्रेजी में बोला जाता है और इस फूल का हिंदी में नाम कुमुदनी है मतलब इसको हिंदी में कुमुदनी कहा जाता है।

लिली के फूल के रंगो का महत्व।

लिली के हर प्रजाति हर रंग का अलग ही महत्त्व होता है

टाइगर लिली (Tiger Lily Flower in Hindi):

अगर हम टाइगर लिली की बात करें तो इस फूल को धन का प्रतीक माना जाता है।

सफ़ेद लिली (White Lily):

अगर हम सफ़ेद लिली की बात करें तो इस फूल को पवित्रता का प्रतीक माना जाता है।

दोस्तों क्या आपको पता है की लिली के फूल का तेल भी निकाला जाता है इस फूल से मशीनो द्वारा तेल निकाला जाता है और इसका इस्तेमाल ज्यादातर त्वचा सम्बन्धी उत्पादों बनाने में किया है और इसके तेल से त्वचा मुलायम और अच्छी रहती है।

दोस्तों लिली का फूल एक तरह से प्राकृतिक एरोमा भी है जोकी तनाव को कम करने में मदद भी करता है और इसके अलावा इसका इस्तेमाल आयुर्वेद में एक ओषधि के रूप में भी किया जाता है।

लिली के फूल का इस्तेमाल और भी कई जगह किया जाता है जैसे जापान के ज्यादातर शादियों में लिली के फूल से सजावट की जाती है और वहां के लोग एक दूसरे को लिली का फूल देकर बधाई भी देते हैं।

वैसे एक बात और आपको बता दें की लिली के सफ़ेद फूलो वाली प्रजाति में ही खुशबू पायी जाती है और बाकि किसी भी प्रजाति में खुशबू नहीं होती है। लिली के फूल सिर्फ बसंत के मौसम में ही खिलते है और बाकि के मौसम में ये सुख जाते हैं। और दोस्तों लिली की कई प्रजाति ऐसी भी हैं जिन्हे जानवर खाना पसंद करते हैं।

लिली के फूलो से बिल्ली को हमेशा दूर रखना चाहिए क्युकी इन फूलो में कुछ ऐसे टॉक्सिक पाए जाते हैं जिसे बिल्ली अगर खा लेती है तो उसकी किडनी फ़ैल होने का खतरा हो सकता है।

अगर अपने अभी तक इस फूल के पौधे को अपने घर में नहीं लगाया है तो तो आज की इसको अपने घर या गार्डन में लगाएं इससे आपका घर काफी सुन्दर दिखेगा और इसकी खुशबू भी आपके पूरे घर में रहेगी।

लिली का मतलब | Lily Flower Meaning in Hindi

lily flower
image source by pixabay

जैसा की हमने ऊपर भी बताया है की लिली का मतलब पवित्रता और भक्ति होता है मतलब लिली का फूल पवित्रता और भक्ति का प्रतीक माना जाता है वैसे तो लिली कई रंगो में पाया जाता है और हर रंग का अपना अलग ही महत्त्व होता है।

इसके अलावा लिली को संस्कृति के अनुसार भी अलग अलग चीजों का प्रतीक माना जाता है जैसे ग्रीक की एक कल्पना के अनुसार लिली को मात्र्तव और पुनर्जन्म का प्रतीक भी माना जाता है।

वैसे तो दुनिया के हर जगह इस फूल का उपयोग होता है लेकिन चीन में इस फूल का उपयोग पिछले 100 सालो से किया जा रहा है इस फूल का इस्तेमाल लोग शादियों में करते हैं क्युकी उनका मानना है की ये रिश्तो को मजबूत रखता है।

यह भी पढ़ें।

लिली के फूल का पौधा घर पर कैसे लगाएं।

लिली के पौधे को घर में उनके बीजो के द्वारा बहुत ही आसानी से उगाया जा सकता है लेकिन इनमे अक्सर एक समस्या आती है अगर हम लिली के पौधे को बीजो के द्वारा लगाते हैं तो इनमे फूल आने में बहुत समय लग जाता है।

इसलिए इस पौधे को हमेशा बल्ब के द्वारा ही लगाना चाहिए अब बहुत से लोगो का सवाल होगा की लिली को बल्ब के द्वारा कैसे लगाया जाये तो चलिए जानते हैं।

लिली को बल्ब द्वारा कैसे लगाए।

दोस्तों लिली के पौधे को लगाने के लिए आपको सबसे पहले बल्ब की जरूरत पड़ती है तो सबसे पहले आप किसी भी अपने पास की नर्सरी से लिली का बल्ब मंगवा लें आपको बता दें की बल्ब एक तरह से पौधे का तना होता है मतलब पौधे का हिस्सा।

अगर आपके घर के पास कोई भी नर्सरी नहीं है तो आप इसे कोई भी शॉपिंग साइट भी इसे मंगवा सकते हैं लिली के बल्ब कई प्रजाति के हिसाब से आतें हैं जिसमे अलग अलग रंग के फूल उगते हैं तो आपको जोभी पसंद हो उसे आप आर्डर कर लें।

अब लिली पौधे का बल्ब मंगवाने के बाद आपको गमले के लिए मिटटी को तैयार करना होगा। मिटटी को तैयार करने के लिए आप किसी पुराने बगीचे की मिटटी और उसके साथ गोबर का खाद ले सकते हैं।

पौधे को लगाने से पहले आप इस मिटटी में नीमखली को मिला लें इससे आपके पौधे में फफूंदी नहीं लगेगी और इन सभी को एक जगह मिलकर तैयार कर लें।

मिटटी के तैयार होने के बाद आप गमले को लें और ध्यान रखे की गमले के नीचे एक छेद होना चाहिए और अगर आप ये पौधा लगाने के लिए किसी प्लास्टिक की बाल्टी का इस्तेमाल कर रहे हैं तो उसमे भी एक छेद कर लें।

उसके बाद गमले के छेद पर कोई भी कंकड़ रखकर उसमे मिटटी भर दें और आधे गमले में मिटटी भरने के बाद उसे सही से दबा दें इससे पौधा लगने के बाद मिटटी बैठेगी नहीं।

आधा गमला मिटटी भरने के बाद उसमे बोनेमाल पाउडर की एक परत बना लें इसके बाद उसके ऊपर फिरसे मिटटी डालकर अपने बल्ब को लगा दें।

मतलब मिटटी भरने के बाद आप लिली के पौधे के बल्ब को तकरीबन 4 से 5 इंच की गहराई में लगा दें इससे बड़ा होने पर पौधे को किसी भी लकड़ी के सहारे के जरूरत नहीं पड़ेगी।

लिली के पौधे का बल्ब लगाने के बाद आप गमले में पूरी तरह से पानी दाल दें और गमले में पानी भरने के बाद आप गमले को एक ऐसी जगह रख दें जहाँ सीधी धुप न आती हो।

और एक बात का जरूर ध्यान रखे की इनमे पानी ज्यादा न दें बस इतना दें जिससे नमी बानी रहे और कुछ ही दिनों में आपके पौधे बड़े हो जायेंगे।

लिली के पौधे की देखभाल कैसे करें।

white lily flower in hindi
image from pixabay

दोस्तों लिली का पौधा लगाने के लिए आपको हमेशा सुबह का समय ही चुनना चाहिए क्युकी सुबह के समय पौधे अच्छे रहते हैं और हमेशा पौधे को लगाने के लिए ताज़ी मिटटी का ही इस्तेमाल करें और पौधे को भरपूर मात्रा में पानी देते रहें ताकि पौधे में नमी बानी रहे।

आप इसमें ज्यादा भी पानी भी न डाले इससे पौधा गाल भी सकता है और जब पौधा बड़ा हो जाये तो आप इसमें सिर्फ इतना पानी दें जिससे सिर्फ नमी बानी रहे।

और इस पौधे को किसी ऐसी जगह रखे जहाँ पर हलकी धुप आती हो क्युकी अगर सीधी धुप इसपर आएगी तो यह सुख भी सकता है।

जब लिली का पौधा बड़ा हो जाये तो आपको इसमें महीने में एक बार खाद जरूर देना चाहिए इससे पौधा जल्दी बड़ा होता है और फूल भी अच्छी मात्रा में देता है। और इसी तरह से आप लिली के पौधे की देखभाल अच्छे से कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें।

लिली का उपयोग और इसके फायदे

लिली के पौधे में हवा को शुद्ध करने की भरपूर क्षमता होती है और यह घर की हवा को शुद्ध करने में भी काफी मदद करता है लिली का पौधा घर में लगाने से घर की सुंदरता तो बढ़ती ही है और यह आपके गार्डन को भी सुन्दर बनता है।

घर में होने वाली कुछ जहरीली गैसों जैसे कार्बन मोनोऑक्साइड और फॉर्मलाडेहाइड को भी यह पौधा दूर करता है जिससे घर में इससे जुडी कोई बीमारी नहीं होती है और इस फूल का प्रयोग अमोनिआ के इलाज में भी किया जाता है।

पौधे को लगाने के बाद इसकी देखभाल में ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ती और एक बात और अगर लिली के पौधे को सर्दियों में और बरसात के मौसम में बाथरूम में रखा जाये तो इसमें फफूंदी नहीं लगती।

लिली का पौधा कैसे लगाएं वीडियो में देखें

Lily Flower Frequently Ask Questions

लिली फ्लावर को हिंदी में क्या कहते हैं ?| What Is Lily Flower called in Hindi ?

लिली के फूल को हिंदी में कुमुदनी कहते हैं इसके साथ साथ इसके और भी कई नाम हैं जैसे इसे कमलिनी और कुमुद भी कहा जाता हैं।

क्या लिली भारत में पाया जाता है ?| Is lily found in India??

जी हाँ दोस्तों लिली का फूल भारत में काफी मात्रा में उगाया जाता है और यह फूल मई और जून के महीनो में खिलता है जो अपनी खूबसूरती को एक अलग ही दिशा में ले जाता है।

लिली का फूल खास क्यों होता है?

लिली का फूल दूसरे फूलो से खास माना जाता है और ये इसलिए खास माना जाता है क्युकी लिली के फूल को पवित्रता का प्रतीक माना जाता है वैसे इस फूल के अलग अलग रंगो के अलग अलग महत्त्व होते हैं।

 इसके अलावा लिली को ग्रीक में पुनर्जन्म और मातृत्व से जुड़ा हुआ भी माना जाता है और चीन में तो इसे पिछले 100 सालो से शादी में इस्तेमाल किया जाता है क्युकी ये शादी के बंधन को मजबूत रखता है।

लिली का फूल कहाँ से आया हैं?

लिली के फूल की उत्पत्ति उत्तरी अमेरिका, यूरोप और एशिया में काफी साल पहले हो गई थी और इसकी अभी 100 से ज्यादा प्रजातियां उपलब्ध है यह फूल ज्यादातर सफ़ेद, लाल, नारंगी, गुलाबी, और पीले रंगो में पाया जाता है।

लिली का फूल किस मौसम में खिलता है ?

लिली का फूल सर्दियों के मौसम में खिलना शुरू होते हैं और यह फूल मार्च के महीने तक खिलते हैं और जब ये फूल खिलते हैं तो पूरा बगीचा खुशबू से भर जाता है और पुरे में एक अलग खूबसूरती नजर आती है।

लिली के फूल के बीच में क्या होता है ?

लिली के फूल के बीच में एक छोटा मादा फूल होती है जिसे पिस्टिल नाम से जाना जाता है इस फूल के द्वारा ही परागण होता है जिससे ज्यादा से ज्यादा फूल आते हैं इसके अंदर एक पतली नली जैसा एक डंठल होता है। जिसके ऊपरी हिस्से की नोक चिपचिपी होती है, जिसे कलंक के नाम से भी जाना जाता है।

यह भी पढ़ें।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

3,400FansLike
500FollowersFollow
- Advertisement -

Latest Articles