31.4 C
New York
Thursday, August 4, 2022

Information About Tiger in Hindi | About Bengal Tiger in Hindi

Information About Tiger in Hindi: बाघ बहुत ही ख़ूबसूरत होने के साथ साथ बहुत ही आक्रामक और मांसाहारी जंगली जानवर है बाघ (Tiger in Hindi) बिल्ली की प्रजाति का सबसे बड़ा जानवर है और ये काफी ताकतवर भी है बाघ (Tiger in Hindi) भारत सहित एशिया के ज्यादातर इलाको में पाया जाता है बाघ ज्यादातर भारत, रूस, थाईलैंड, बांग्लादेश, मलेसिया, भूटान और नेपाल आदि देशो में पाया जाता है

India National Animal in Hindi

Tiger in hindi
image by pixabay

बाघ (Tiger) का साइंटिफिक नाम ‘पैंथेरा टाइग्रिस है यह कई रंगो में पाया जाता है लेकिन इसके पेट का रंग सफेद ही होता है इसके सरीर पर काली धारियाँ होती है बाघ (Tiger) खासकर अपने शिकार करने के तरीके, फुर्ती और तेज रफ़्तार के लिए जाना जाता है और बाघ भारत का राष्ट्रीय पशु (India National Animal in Hindi) भी है।

किसी समय पर बाघ की संख्या में लगातार कमी आने की वजह से बाघ को 1986 से लुप्तप्राय प्रजाति में रखा गया था दुनिया में लगभग 4000 के आसपास बाघ है उनमे से करीब 75% सिर्फ भारत में है। 1986 के बाद से भारत में बाघ का शिकार करना कानूनन अपराध है।

Tiger in Hindi

बाघों (Tiger) की संख्या में लगातार कमी आने की वजह से इसे दुर्लभ प्रजाति के रूप में रखा गया है और बहुत से देशो में तो बाघ विलुप्त हो चुके है। इसके इतनी तेजी से विलुप्त होने का कारण ये है की लगातार जनसँख्या में वृद्धि होने के कारण जंगलो की कटाई और बाघों का शिकार तेजी से हुआ जिसकी वजह से बाघ विलुप्त होने के कगार पर आ चुके थे। भारत में ज्यादातर बाघ सुन्दर वन में पाए जाते है

जिसे रॉयल बंगाल टाइगर (Royal Bangal Tiger in Hindi) के नाम से जाना जाता है खास बात तो ये है की रॉयल टाइगर (Royal Bangal Tiger) का असली स्थान भारत को ही माना जाता है। दुनिया भर में बाघों की कई प्रजाति पायी जाती लेकिन भारत में सिर्फ रॉयल बंगाल टाइगर ही पाया जाता है जो अपने रॉयल अंदाज के लिए जाना जाता है।

प्राचीन काल से ही बाघों (Tiger) को अधिक महत्त्व दिया गया है अलग अलग धर्मो में भी बाघों को एक प्रतीक के तौर पर दिखाया गया है अलग अलग देश के झंडो पर भी बाघों को विशेष स्थान मिला हुआ है वैज्ञानिक रिसर्च के अनुसार ही यह पता चला है की भारत में बाघ चीन की तरफ से आये थे क्युकी भारत से लेकर रूस के साईबेरिआ तक सभी बाघों के DNA मिलते है जिससे यह पता लगा है।

Detail of Tiger in Hindi | टाइगर की पूरी जानकारी

बाघ (Tiger) एक लाल पीले रंग का काले धरिओ वालो जानवर है ये काली धारियां उसको झाड़िओ में छुपने में मदद करती है इससे वह झाड़ियों में दिखाई नहीं देता और उसे शिकार में आसानी होती है बाघ एक लंबा छोड़ा और भारी जानवर है इसका वजन लगभग 300 ग्राम तक होता है और इसकी लंबाई लगभग 6 – 7 फुट तक होती है

बाघ (Tiger) एक मांसाहारी पशु है जो काफी ताकतवर है इसके मांस पेसिओ की संरचना काफी मजबूत होती है जिसकी वजह से ये काफी तेज दौड़ सकते है और काफी लम्बी छलांग भी लगाते है वैसे तो बाघ (Tiger) काफी शांत दिखाई देते है लेकिन ये उतने ही हिंसक होते है ये बहुत ही खूंखार जानवर होते है

इनकी ताकत का अंदाजा हम इससे लगा सकते है की ये हांथी और जिर्राफ को भी अपना शिकार बना लेते है इन्हे खूंखार इसलिए भी माना जाता है की ये बिना भूख के भी किसी पर भी हमला कर देते है इनसे पूरा जंगल भयभीत रहता है

बाघ (Tiger) ज्यादातर नमी वाली जगह या फिर घास वाले मैदानों पर रहना पसंद करते है ये ज्यादातर अन्य शाकाहारी पशुओ का शिकार करते है जैसे हिरन, जंगली भैंसे, जिराफ जैसे जानवरो का शिकार करते है इसकी देखने और सूंघने की क्षमता भी बेहतरीन होती है जो इसे कुशल शिकारी बनाती है। बाघ (Tiger) काफी तेज दौड़ते है लेकिन ये ज्यादा देर तक नहीं दौड़ सकते इसलिए ये अपना शिकार छुपकर और अचानक से हमला कर के करते है

बाघ (Tiger) ज्यादातर अकेले ही रहना पसंद करते है और दुसरो बाघों का दखल देना इन्हे बिलकुल पसंद नहीं है सिर्फ प्रजनन के समय ही बाघ बाघिन पास आते है बाघिन लगभग 3.5 महीनो में बच्चो को जन्म देती है ये एक बार में 1 से 5 बच्चो को जन्म देती है और उनकी देख रेख और पालन पोषण बाघिन खुद करती है बच्चो को पूरी तरह बड़े होने में 2 से 3 साल लग जाते है

बाघ का शरीर | Tigers Body Type in Hindi

white Tiger

ये तो हम सभी को बाघ काफी ताकतवर जानवर है पंजे गद्देदार होते है जो इन्हे तेज दौड़ने में और लंबी छलांग लगाने में मदद करते है इसकी मांसपेशिया काफी मजबूत होती है बाघ की पूंछ की भी विशेषता भी काफी है जब बाघ (Tiger) अपने शिकार के पीछे दौड़ता है तो उसकी पूंछ उसके शरीर का संतुलन बनाये रखने में मदद करती है

यह भी पढ़ें :- List of New South Movie Hindi Dubbed | न्यू साउथ मूवी हिंदी में

बाघ (Tiger) लगभग 85 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से दौड़ सकता है और करीब 12 फुट ऊँची छलांग लगा सकता है इसके दन्त जबड़े और पंजे बहुत मजबूत होते है जिससे ये अपने से बड़े जानवर का शिकार भी आसानी से कर लेता है।

बाघों की दिनचर्या काफी आराम दायक होता है बाघ ज्यादातर दिन में सोते है और रात में अपना शिकार करते है वह दिन में जंगल की सैर भी करते है और अपना शिकार को ढूंढ़ते है। वैसे कहा जाता है की बाघ पुरे 24 घंटो में से करीब 1-2 घंटे ही शिकार करते है फिर भी पुरे जंगल में इनका खौफ रहता है वैसे तो बाघ (Tiger) दिखने में काफी शांत स्वभाव के लगते है लेकिन ये वैसे होते नहीं है ये बहुत ही खूंखार और हिंसक जानवर है जिसका आतंक पुरे जंगल में देखने को मिलता है।

यह भी पढ़ें :- गिर नेशनल पार्क | Gir National Park in Hindi

बाघों को प्रजाति | Tigers ki Prajati in Hindi

वैसे तो बाघ खुद ही एक दुर्लभ प्रजाति है लेकिन बाघों की भी दुनिया में कई प्रजाति पायी जाती है ये दुनिया के अलग अलग देशो में पायी जाती है दुनिया में बाघ की कई प्रजाति (Tigers ki Prajati in Hindi) तो विलुप्त हो चुकी है वैसे अभी के समय में दुनिया में बाघों को करीब 8 प्रजाति पायी जाती है

बाघों की कुछ प्रजाति जो विलुप्त हो चुकी है वो है जवन टाइगर, कैस्पियन टाइगर और बाली टाइगर। और अभी पायी जाने वाली प्रजाति हैं बंगाल टाइगर, सुमनत्रन बाघ, इंडो-चाइनीज बाघ, मलयान टाइगर, दक्षिणी-चीनी टाइगर, साइबेरियन बाघ। इनमे से बाघों की सैवेरियन प्रजाति केवल ठन्डे इलाको में ही पायी जाती है।

भारत के Royal Bangal Tigers सुंदरवन के डेल्टा और नदी के किनारे पर रहते है और ये बाघ अच्छे तैराक भी है ये काफी देर तक पानी में तैर सकते है।

भारत में बाघों का महत्व | Tigers ka Mahatav in Hindi

भारत में बाघों का बहुत महत्त्व है इसकी सुंदरता, ताकत और शक्ति को देखते हुए भारत सरकार ने इसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया हुआ है इतना ही नहीं भारत में टाइगर का महत्त्व हम इस प्रकार लगा सकते है की भारत सरकार ने रॉयल बंगाल टाइगर की फोटो डाक टिकट पर जारी कर रखी है और नोटों पर भी इनकी फोटो पायी जाती है।

अगर धार्मिक नजरिये से देखा जाये तो उसमे भी बाघों का अधिक महत्त्व है क्युकी बाघों को माँ दुर्गा की सवारी कहा जाता है

बाघों के बारे में कुछ और जानकारी | Information of Tigers in Hindi

* बाघों की पीछे वाली टाँगे आगे वाली टैंगो से बड़ी होती है जिससे उन्हें तेज दौड़ने में और लम्बी छलांग लगाने में मदद मिलती है

* भारत में बाघों को पालतू जानवर बनाना गैर कानूनी है इन्हे यहाँ पालतू जानवर नहीं बनाया जा सकता।

* हमारे फिंगर प्रिंट की तरह इनकी सरीर पर पायी जाने वाली काली धारियां भी हर बाघ की अलग अलग होती है कभी भी दो बाघों की एक जैसी धारियां नहीं होती है।

* बाघ ज्यादातर रात के समय ही शिकार करते है इन्हे रात में ही शिकार करना पसंद होता है।

* बाघ के बच्चे पैदा होने के समय अंधे होते है करीब एक हफ्ते के बाद उन्हें दिखाई देना शुरू होता है और बड़े होने तक करीब आधे बाघ ही बचते है।

* वैसे तो बाघों के जीवन काल 20-25 वर्षो का होता है लेकिन चिड़िया घर में वे ज्यादा जिन्दा रह जाते है।

* बाघों का दिमाग किसी भी मांसाहारी जानवर से बड़ा होता है केवल भूरे भालुओ को छोड़कर।

* बाघों का DNA घरो में पायी जाने वाली बिल्लियों से लगभग 95% मिलता है क्युकी ये एक ही परिवार की हैं।

* अन्य बिल्लियों के मुकाबले बाघों को काफी अच्छे तैरना आता है और ये ज्यादा देर तक भी तैर सकते है।

* हर बाघ में से अलग खुसबू आती है

* बाघ अक्सर अपना शिकार दूसरे बाघों और दूसरे जानवरो के लिए छोड़ देते है।

* बाघ के पंजे और जबड़े इतने मजबूत होते है की उनका एक ही हमला किसी भी जानवर और इंसान को तोड़ने के लिए काफी है।

* बाघों में साइबेरियन टाइगर का आकर सबसे बड़ा है और सुमन्त्रण टाइगर का सबसे छोटा।

* बाघ 30 फुट लम्बी और 12 फुट ऊँची छलांग लगा सकते है।

* टाइगर्स और शेरों के बीच शारीरिक सम्बन्ध बनाया जाना काफी सामान्य है. नर बाघ और मादा शेर के समागम से पैदा होने वाले बच्चों को ‘Tigons’ कहा जाता है और मादा बाघ एवं नर शेर के समागम से पैदा होने वाले शावकों को ‘Ligers’ कहा जाता है

* आज से करीब 100 साल पहले लगभग 40000 बंगाल टाइगर रहते थे लेकिन आज इनकी संख्या घटकर 2600-2700 ही रह गई है।

* बाघों पर पायी जाने वाली काली धारियां न सिर्फ उनके बालो पर ही नहीं बल्कि उनकी त्वचा पर भी पायी जाती है।

* वैज्ञानिको को बाघों के करीब 20 लाख साल पुराने अवशेष भी मिल चुके है।

प्रोजेक्ट टाइगर क्या है। What is Project Tiger

Tiger

प्रोजेक्ट टाइगर (Project Tiger in Hindi) भारत सरकार द्वारा चलाया गया एक अभियान है जो भारत सरकार ने अप्रैल 1973 में चलाया था इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य बाघों के शिकार पर रोक और प्रजनन द्वारा बाघों की वृद्धि करना था ये अभियान सरकार ने इसलिए चलाया था क्युकी बाघों की प्रजाति विलुप्त होने की कागार पर आ चुकी थी

इस अभियान के तहत बाघों को बचाने के लिए पुरे भारत में महत्वपूर्ण कदम उठाय गए इस अभियान के तहत पुरे भारत में 23 बाघ (Tiger) अभयारण बनाये गए जिसके परिणाम काफी सुखद रहे और भारत में बाघों में विद्धि हुई और शिकार भी बहुत हद तक खत्म हो गए

Conclussion | निष्कर्ष

जैसा की आपने इस पोस्ट में पढ़ा हमें बाघों (Tiger in Hindi) का संरक्षण करना चाहिए क्युकी बाघ (Tiger in Hindi) भारत के लिए एक अमूल्य प्राणी है और ऐसा करना हमारे लिए गौरव की बात होनी चाहिए

यह भी पढ़ें।

* Acharya Chanakya in Hindi | आचार्य चाणक्य एक अमर कथा

* Raksha Bandhan Essay in Hindi | रक्षा बंधन पर निबंध

* Scientific Name or Botanical Name of Fruits Vegetables and Plants

* Speech On Mothers Day in Hindi | मदर्स डे

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

3,400FansLike
500FollowersFollow
- Advertisement -

Latest Articles