31.4 C
New York
Thursday, August 4, 2022

Mungfali Khane ke Fayde | मूंगफली खाने के फायदे

Mungfali Khane ke Fayde: सर्दियां आ गयीं तो मूंगफली खाने का मजा बढ़ गया । परिवार या दोस्तों के साथ बैठकर मूंगफली खाएं । मूंगफली खाने के फायदे बोहोत है इसे गरीबों का बादाम ‘ कहा जाता है । मूंगफली हमारे शरीर का पोषण करती है ।

इतना जरुर ध्यान रखें कि ज्यादा मूंगफली खाने से नुकसान भी हो सकता है । मुट्ठी भर भुनी मूंगफलियां निश्चय ही पोषक तत्वों की दृष्टि से लाभकारी हैं । मूंगफली में प्रोटीन , केलोरी और K , E , B विटामिन भरपूर होते हैं । ये अच्छा पोषण प्रदान करती हैं ।

Mungfali Khane ke Fayde | मूंगफली खाने के फायदे

Mungfali Khane ke Fayde

http://pixabay.com

मूंगफली में प्रोटीन , चिकनाई और शर्करा पाई जाती है ।

मूंगफली की भुनी हुई एक किलोग्राम गिरी में दो गैलन दूध के बराबर ऊर्जा होती है ।

इसका प्रोटीन दूध से मिलता – जुलता है , चिकनाई घी से मिलती है ।

मूंगफली के खाने से दूध , बादाम और घी की पूर्ति हो जाती है ।

मूंगफली शरीर में गर्मी पैदा करती और फेफड़े को बल देती है ।

थोड़ी मात्रा में नित्य हानिकारक भी है । मूंगफली विकार भी बढ़ता है । इसलिए सर्दी के मौसम में ही खाना ज्यादा लाभदायक है ।

यह तर खासी में उपयोगी है ।

महदे मूंगफली खाने से मोटापा बढ़ता है ।

इसे भोजन के साथ , जैसे सब्जी , खीर , खिचड़ी आदि में डालकर नित्य खाना चाहिए । मूंगफली में तेल का अंश होने से यह वायु की बीमारियों को नष्ट करती है ।

यह पाचनशक्ति को बढ़ाती है और रूचिकर होती है

लेकिन गर्म – प्रकृति के व्यक्तियों के लिए ज्यादा खाने से पित्त यक्ष्मा ( टीबी ) : – मूंगफली में रसायन आर्जिनाइन नामक एमीनो अम्ल बहुतायत में पाया जाता है जो यक्ष्मा रोग को दूर करने में सफल हो सकता है ।

यह शरीर में नाइट्रिक – ऑक्साइड का स्तर बढ़ाने में सहायक हो सकता है ।

नाइट्रिक और ऑक्साइड शरीर की रोगप्रतिरोधक प्रणाली को चुस्त करता है ।

मूंगफली में वसा जैसे अन्य पौष्टिक तत्व भी होते हैं , जो कि रोगियों पर सकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं ।

और भी कुछ मूंगफली खाने के फायदे | Mungfali Khane ke Fayde

रोगियों को चार सप्ताह तक अन्य दवाओं के साथ आर्जिनाइन वाले कैप्सूल दिए गए । प्रयोग में पाया गया है कि जिन रोगियों को आर्जिनाइन की खुराक दी गई उन पर उपचारका ज्यादा लाभ दिखाई दिया ।

तेज खांसी जैसे लक्षणों में जल्दी सुधार देखा गया ।

थूक की जाँच में भी टीबी के जीवाणुओ के स्तर में कमी देखी गई ।

विशेषज्ञों का मानना है कि आर्जिनाइन थेरेपी की मदद से टीबी की चिकित्सा के समय में कमी लाई जा सकती है । विशेषज्ञों ने कहा है कि जहां आर्जिनाइन औषधि के रूप में सरलता से या सस्ते में उपलब्ध नहीं हो , वहा थूक की जांच में भी टीबी के जीवाणुओं के स्तर मूंगफली से इसका काम लिया जा सकता है । टी.बी के रोगियों को नित्य मूंगफली खानी चाहिए ।

Mungfali Khane ke Fayde

गर्भावस्था : –

गर्भकाल में स्त्रियों को साठ ग्राम मूंगफली नित्य खाने से गर्भस्थ शिशु की प्रगति में लाभ होता है । सेंकी हुई मूंगफली पीसकर पाउडर बना लें । गर्भावस्था में एक गिलास गर्म दूध में तीन चम्मच पाउडर डालकर नित्य एक बार पीने से स्वस्थ शिशु का जन्म होता है अथवा सेंकी हुई मूंगफली खाती जायें और दो – दो घूट दूध पीयें ।

इस विधि से भी समान लाभ होगा । दूधवृद्धि – नित्य कच्ची मूंगफली खाने से दूध पिलाने वाली माताओं का दूध बढ़ता है । नई सिकी हुई मूंगफली नियमित खाते रहने से भी माताओं के दूध में वृद्धि होती है ।

त्वचा की कोमलता –

जाड़े के दिनों में नई सिकी हुई मूंगफली खाते रहने से त्वचा कोमल रहती है और हाथ – पैर नहीं फटते । खुश्की , सूखापन : – सर्दियों में त्वचा में सूखापन आ जाता है । जरा सा मूंगफली का तेल , दूध और गुलाबजल मिलाकर मालिश करें और बीस मिनट बाद स्नान कर लें । इससे त्वचा का सूखापन ठीक हो जायेगा ।

होठ-

नहाने से पहले हथेली में चौथाई चम्मच मूगफली का तेल लेकर अंगुली से हथेली में रगड़ें और फिर होठों पर इस तेल की मालिश करे , होठो के लिए यह लाभप्रद है ।

मोटापा घटाना-

कुछ विशेषज्ञों का कहना है कि यदि खाना खाने से कुछ समय पूर्व थोड़ी – सी भुनी हुई मूंगफली बिना चीनी की चाय या कॉफी के साथ ली जाए , तो भूख जल्दी शांत हो जाती है और व्यक्ति कम भोजन करता है । इस प्रकार शरीर का वजन धीरे – धीरे कम होने लगता है ।

हृदय –

मूंगफली में विटामिन बी भरपूर मात्रा में पाया जाता है । इसे शरीर के लिए आवश्यक कैलोरीज का भण्डार कहा जाता है । इसके उपरान्त भी मूंगफली के प्रयोग में यह विशेषता है कि इसमें कोलेस्ट्रॉल नामक पदार्थ नहीं होता ।

इसमें मोनो अनसेचुरेटेड फैटी एसिड होता है जो हृदय रोग के खतरे को कम करता है । मूंगफली के रिफाइण्ड तेल के डिब्बे पर भी छपा रहता है कि यह हृदय रोग का खतरा कम करता है ।

यदि कम मात्रा में मूंगफली खायें तो दुष्प्रभाव नहीं पड़ेगा , लेकिन अधिक खाने से हानि हो सकती है । हृदय के रोगियों को मूंगफली कम से कम खानी चाहिये मूंगफली दिल के लिए हानिकारक हो सकती है ।

मूंगफली का तेल

मूंगफली का तेल पौष्टिक और स्वास्थ्य के लिए भी लाभदायक होता है । यह सरलता से पच जाता है

इसमें प्रोटीन इतनी पर्याप्त मात्रा में होता है जिससे कि प्रोटीन के लिए कोई अन्य चीज लेने की आवश्यकता ही नहीं होती है ।

हाथ , पैर और जोड़ों के दर्द में भी मूंगफली का तेल लाभ पहुंचाता है ।

मूंगफली के तेल से शरीर की मालिश करने पर स्नायु मजबूत होते हैं तथा दर्द में आराम मिलता है ।

मूंगफली के तेल को गुनगुना करके मालिश करने से दाद , खाज , खुजली आदि त्वचा रोग ठीक होते हैं ।

Note:- शिकागो विश्वविद्यालय में अमेरिका के डॉ . डेगा देसिलियनोविच और उनके सहयोगी शोधकर्ताओं यह बताया है कि दिल को मूंगफली से खतरा है , इससे धमनियों की आन्तरिक दीवार पर वसा जमा हो जाती है जिससे रक्तप्रवाह में अवरोध उत्पन्न हो सकता है । यह मत डॉ ड्रेगा ने बन्दरो को सुबह शाम भरपेट मूगफली खिलाकर परीक्षण के आधार पर व्यक्त किया ।

यह भी पढ़ें।

* Information About Parrot in Hindi | तोते के बारे में जानकारी

* Mahatma Gandhi Essay in Hindi | महात्मा गाँधी पर निबंध

* Jamun or Aam ke Fayde | आम और जामुन के फायदे

* Birds Name In Hindi And English | पक्षियों के नाम

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

3,400FansLike
500FollowersFollow
- Advertisement -

Latest Articles