20.5 C
New York
Sunday, September 25, 2022

पालक के फायदे |Palak ke fayde | Spinach in Hindi

Spinach in hindi: हरी पत्तेदार सब्जियां खाने की सलाह हर डॉक्टर द्वारा दी जाती है , क्योंकि हरी सब्जियों में सभी पोषक तत्व प्रचूर मात्रा में होते हैं । इसलिए पालक(palak) का नाम हरी सब्जियों में सबसे पहले लिया जाता है ।

इसका कारण यह है कि पालक(palak) स्वाद के अलावा स्वास्थ्य के लिए भी बहुत अच्छी होती है । और ये सबसे अधिक सर्दी के मौसम में आती है ।

वैसे आजकल 12 महीने सभी सब्जियां मिल जाती हैं , लेकिन बरसात में आने वाली पालक में मिट्टी व कीटाणु बहुत होते हैं , इसे इस मौसम में नहीं खाना चाहिए ।

पालक(spinach in hindi) में जो गुण पाए जाते हैं , वे सामान्यतः अन्य शाक – भाजी में नहीं होते । यही कारण है कि पालक स्वास्थ्य की दृष्टि से अत्यंत उपयोगी , सर्वसुलभ एवं सस्ता है ।

पालक की शुरुआत कहा से हुई ? History of Spinach in Hindi

Spinach in Hindi

पालक (Spinach in Hindi) मूल रुप से पर्शिया ( आधुनिक ईरान ) की उपज है । चीन में यह सातवी शताब्दी में लाया गया । यूरोप के लोगों ने इसे बारहवी सदी में जाना और अमेरिका पहुंचते पहुंचते इसे 1806 का साल लग गया ।

लेकिन इससे बहुत पहले लिखे गए भारत के आयुर्वेदिक ग्रथों में इसका उल्लेख बताता है कि ‘ पालक बहुत समय पहले से भारत में उगाया जाता था और भारतीय औषधि विशेषज्ञ इसके गुणों को जानते थे ।

ऐसा समझा जाता है कि यह भारत से मध्यपूर्व , वहां से चीन , चीन से यूरोप और यूरोप से अमेरिका पहुंचा । चीन में इसे आज भी ‘ ईरानी शाक ‘ के नाम से जाना जाता है । आज चीन पालक उगाने वाले देशों में शीर्ष पर है ।

यहां पर विश्व का 85 प्रतिशत पालक उगाया जाता है । पालक को डिब्बा बंद कर के बेचने का काम सबसे पहले अमेरीका में 1949 में शुरू किया । बर्ड्स आई नामक इस कंपनी ने इस आशय का अपना पहला विज्ञापन लाइफ पत्रिका में दिया था ।

मार्च 2005 में बॉन एपेटिट पत्रिका द्वारा किये एक सर्वेक्षण में 56 प्रतिशत लोगों ने स्वीकारा कि पालक उनकी सबसे प्रिय सब्जी है । यह भारत के प्रायः सभी प्रांतों में बहुलता से सहज प्राप्य है । इसका पौधा लगभग एक से डेढ़ फुट ऊंचा होता है ।

इसके पत्ते चिकने , मांसल व मोटे होते हैं । यह साधारणतः शीत ऋतु में अधिक पैदा होता है , कहीं – कहीं अन्य ऋतुओं में भी इसकी खेती होती है ।

Spinach in Hindi

पालक के पोषक तत्व :

Spinach in Hindi

(Calorie in Spinach in hindi) पालक में कैलोरी 23 , प्रोटीन 2 प्रतिशत , कार्बोहाइड्रेट 29 प्रतिशत , वसा 0.7 प्रतिशत , रेशा 0.6 प्रतिशत , खनिज 0.7 प्रतिशत , सोडियम प्रतिशत , पोटेशियम 15 प्रतिशत , विटामिन ए 187 प्रतिशत , विटामिन सी 46 प्रतिशत , कैल्शियम 9 प्रतिशत , आयरन 15 प्रतिशत , मैग्नीशियम 19 प्रतिशत मौजूद होता है ।

आयुर्वेद में पालक खाने के फायदे | Benefits of Spinach in Hindi

आयुर्वेद में इसे सुपाच्य , कफ कारक , मूत्रल , वातकारक , ठंडा , भारी , दस्तावर , ज्वर का पथ्य , उल्टी और वायुविकार नाशक माना गया है ।

पालक में लौह तत्व की मात्रा अधिक होने के कारण इसको भोजन या रस के रूप में लेने से रक्त में हीमोग्लोबिन की वृद्धि होने लगती है , होता है और मुरझाए हुए चेहरे , बाल व नेत्र पुनः जिससे कुछ ही दिनों में नए रूधिर का निर्माण चमक उठते है ।

शरीर में नया उत्साह , नई शक्ति- किंचित चरपरा , मधुर , पथ्यशीतल , पित्तनाशक करने वालों को शक्ति प्रदान करता है तो मानसिक स्फूर्ति और जोश का संचार होता है । पालक और तृप्तिकारक है ।

पालक शारीरिक परिश्रम करने वालों के लिए भी अमृत तुल्य है । इसमें पोषक तत्वों की प्रचुर मात्रा होने के कारण यह गर्भवती महिलाओं तथा कमजोर व कुपोषण जनित रोगियों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है ।

इसके सेवन से कमजोर व्यक्ति पुन स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर लेता है । ऐसे रोगी जिनका पाचन तंत्र क्षीण है और जो अधिक भारी भोजन का प्रयोग करने में असमर्थ हैं , उन्हें पालक के सेवन से भोजन को पचाने व पाचन तंत्र को शक्ति प्राप्त करने में सहायता मिलती है ।

इसका रस आमाशय व आंतों या उदर के अनेक रोगों में लाभकारी होता ही है , साथ ही साथ अम्ल – पित्त , अजीर्ण , बवासीर , पेट की वायु , कब्ज आदि रोगों पर नियंत्रण भी रहता है ।

पालक खाने के फायदे | Benefits of Spinach in Hindi

Spinach in Hindi

• पीलिया के दौरान रोगी को पालक का रस कच्चे पपीते में मिलाकर दिया जाए तो काफी लाभदायक सिद्ध होता है ।

• लो ब्लड प्रेशर के रोगियों को रोजाना पालक की सब्जी का सेवन करना चाहिए । माना जाता है करता है ।

थायरॉइड में एक प्याला पालक के रस के साथ एक चम्मच शहद और चौथाई चम्मच जीरे का चूर्ण मिलाकर समस्याओं व मुंह की बदबू जैसे विकार दूर हो जाते है ।

जिन्हें एनिमिया या रक्त अल्पता की शिकायत हो , उन्हें प्रतिदिन पालक का रस सेवन करने से लाभ होता है । पालक के जूस से कुल्ला करने से दांतों की ( लगभग एक गिलास ) दिन में 3 तीन बार अवश्य लेना चाहिए ।

• दिल से संबंधित बीमारियों से ग्रस्त रोगियों को प्रतिदिन एक कप पालक के जूस के साथ 2 चम्मच शहद मिलाकर लेना चाहिए , ये बड़ा गुणकारी होता है । लौह तत्व मानव शरीर के लिए उपयोगी तथा महत्वपूर्ण व अनिवार्य होता है ।

Spinach in Hindi

लोहे के कारण ही शरीर के रक्त में स्थित रक्ताणुओं में रोग निरोधक क्षमता तथा रक्त में रक्तिमा ( लालपन ) आती है । लोहे की कमी के कारण ही रक्त में रक्ताणुओं की कमी होकर प्रायः पाण्डु रोग उत्पन्न हो जाता है ।

• लौह तत्व की कमी से जो रक्ताल्पता अथवा रक्त में स्थित रक्तकणों की न्यूनता होती है , उसका तात्कालिक प्रभाव मुख पर , विशेषतः ओष्ठ , नासिका , कपोल , कर्ण एवं नेत्रों पर पड़ता है , जिससे मुख की रक्तिमा एवं कांति विलुप्त हो जाती है । कालान्तर में संपूर्ण शरीर भी इस विकृति से प्रभावित हुए बिना नहीं रहता । .

• लोहे की कमी से शक्ति ह्रास , शरीर निस्तेज होना , उत्साहहीनता , स्फूर्ति का अभाव , आलस्य , दुर्बलता , जठराग्नि की मंदता , अरुचि , यकृत आदि परेशानियां होती हैं । .

• पालक की शाक वायुकारक , शीतल , कफ बढ़ाने वाली , मल का भेदन करने वाली , गुरु ( भारी ) विष्टम्भी ( मलावरोध करने वाली ) मद , श्वास , पित्त , रक्त विकार एवं ज्वर को दूर करने वाली होती है ।

• आयुर्वेद के अनुसार पालक की भाजी सामान्यतः रुचिकर और शीघ्र पचने वाली होती है । इसके बीज मृदु , विरेचक एवं शीतल होते हैं । ये कठिनाई से आने वाली श्वास , यकृत की सूजन और पाण्डु रोग की निवृत्ति हेतु उपयोग में लाए जाते हैं ।

• गर्मी का नजला , सीने और फेफड़े की जलन में भी यह लाभप्रद है । यह पित्त की तेजी को शांत करती है । गर्मी की वजह से होने वाले पीलिया और खांसी में यह बहुत लाभदायक है ।

• पालक का रस लाभदायक है । कच्चे पालक का रस आधा गिलास नित्य पीते रहने से कब्ज नाश होता है ।

• रक्त की कमी संबंधी विकारों में पालक का रस 100 मिली दिन में तीन बार पीने से चेहरे पर लालिमा , शक्ति व स्फूर्ति का संचार होता है । रक्त संचार प्रक्रिया में तेजी आती है और चेहरे के रंग में निखार आता है

• अगर आप अपनी रूखी त्वचा से परेशान है , तो पालक खाएं क्योकि इसमें पानी की मात्रा ज्यादा मुलायम . होती है , जो आपकी त्वचा को नर्म और बनाये रखने में सहायता करती है ।

• पालक फेफड़ों की सड़न को दूर करता है तथा आंतों के रोग व दस्त आदि में भी लाभदायक है

यह भी पढ़ें

अनार के फायदे

अनानास के फायदे और नुकसान

जानिए क्या है गाजर खाने के फायदे

खुबानी क्या है और क्या है खुबानी के फायदे

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

3,400FansLike
500FollowersFollow
- Advertisement -

Latest Articles