Jamun or Aam ke Fayde | आम और जामुन के फायदे

Aam ke Fayde (आम के फायदे):- उफ ! ये गर्मी , जिसके ख्याल मात्र से ही पसीना आने लगता है । लू के थपेड़े और चिलचिलाती धूप लिए गर्मियों के आते ही भले ही शहर की सड़कों पर तपती दोपहर में सन्नाटा छा जाता हो पर लंगड़ा , चौसा , दशहरी और फजली की पुकार बंद दरवाजों को भी खुलने पर मजबूर कर देती है । जी हां , भयंकर गमिर्यो की ही सौगात है फलों का राजा ‘ आम ‘ ।

aam ke fayde

यह आम सचमुच खास है । सुनहरा रूप लिए यह अपने गुणों व विभिन्न स्वादों के कारण ही फलों का राजा बनने में सफल रहा । आम के नाम से ही मुंह में पानी आने लगता है , फिर अगर इससे बना पना , शेक या फ्रेपे मिल जाए तो कहना ही क्या ! गर्मी में आने वाले लगभग सभी फल रसीले होते हैं

Aam ke fayde | आम के फायदे

जैसे तरबूज , लीची , लौकाट , आडू , आलू बुखारा आदि पर आम के रसीले स्वाद के सामने मानो सब फीके पड़ जाते हैं । इसके मीठे रस में शरीर को लू से बचाने की अद्भुत क्षमता के कारण ही शायद प्रकृति ने इसे गर्मी में पैदा किया है ।

गर्मियों में अगर आपको भी रसीले आमों का स्वाद भाता है तो सेहत से जुड़े इसके ये 9 फायदे आम का स्वाद और भी बढ़ा देंगे :-

यह भी पढ़ें:- बेल के फायदे | Benefits of Aegle marmelos in Hindi

आम के फायदे | Aam ke Fayde in Hindi

aam ke fayde

1. कैंसर से बचाता है कई शोधों में प्रमाणित हुआ है कि आम में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स कोलोन कैंसर , ब्रेस्ट कैंसर , ल्यूकेमिया और प्रोस्टेट कैंसर से बचाव में मददगार है । इसमें क्यूर्सेटिन , एस्ट्रागालिन , फिसेटिन जैसे कई तत्व हैं जो कैंसर से

2. कोलेस्ट्रॉल घटाता है आम में फाइबर और विटामिन सी अच्छी मात्रा में होते हैं जो लो डेंसिटी लिपोप्रोटीन ‘ ( एमलीएल ) यानी बैड कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम करने में मदद बचाव करते हैं । करते हैं ।

3. त्वचा के लिए फायदेमंद आम खाएं या पैक के रूप में लगाएं , यह त्वचा के छिद्र खोलता है जिससे मुंहासे कम होते हैं ।

4. आंखों के लिए फायदेमंद आम में भरपूर मात्रा में विटामिन – ए होता है जो आंखों की रोशनी बढ़ाता है और रतौंधी जैसे रोगों से दूर रखता है ।

5. एल्कलाइ का संतुलन बनाता है इसमें मौजूद साइट्रिक एसिड , टरटैरिक एसिड और मैलिक शरीर में एल्कलाइ यानी क्षारीय तत्वों का संतुलन बनाता है ।

6. मधुमेह में फायदेमंद है आम के पत्ते आम के पत्ते खून में इन्सुलिन का स्तर बढ़ाते हैं । इन्हें अगर रात भर पानी में भिगोकर छोड़ दें और फिर उस पानी को छानकर पीएं तो शरीर में इन्सुलिन का स्तर सामान्य रहेगा ।

7. पाचन ठीक रखता है पपीते की तरह ही आम भी पाचन शक्ति को अच्छा रखता है । इसमें ऐसे कई एन्जाइम्स होते हैं जो शरीर में प्रोटीन को तोड़ने में मदद करते हैं ।

8. स्ट्रोक से बचाता है कई शोधों में यह प्रमाणित हो चुका है कि आम गर्मियों में स्ट्रोक के खतरे से बचाता है । आयुर्वेद में भी इसे धूप के प्रभाव से बचाव लिए मददगार फल बताया है ।

9. प्रतिरोधी क्षमता आम में विटामिन – सी और विटामिन – ए के अलावा 25 प्रकार के कैरोटेनॉयड्स होते हैं जो शरीर में प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाते हैं ।

यह भी पढ़ें:- शलगम के फायदे | Turnip(Shalgam) ke fayde in Hindi

रसीले आम का मौसम | Aam ka Mausam

हमारे देश में आम एक प्रचलित और स्वादिष्ट फल है । भारतवर्ष के सभी स्थानों में इसकी उत्पत्ति होती है । छोटे से छोटे और बड़े से बड़े बगीचों में इसके वृक्ष लगाए जाते हैं । सड़कों के दोनों ओर आम के वृक्ष एक अपूर्व शोभा देते हैं आम के पेड़ के प्रायः समस्त अंग काम में आते हैं ।

औषधि प्रयोग में विशेषकर इसकी गुठली ली जाती है । आम का कच्चा फल स्वाद में खट्टा और पका फल मीठा होता है । यह रुधिर विकार दूर करने वाला तथा फोड़े – फुसियों का नाश करने वाला है ।

कच्चे आम के फायदे (Kachche aam ke fayde): यह कसैला खट्टा , रुचिकारी होता है । कच्चे आम रूक्ष और त्रिदोषकारक होते हैं ।

aam ke fayde
Image By Pixabay

अमचूर के फायदे (aamchur ke fayde): कच्चे आम के ऊपर का छिलका उतारकर उसको सुखा लेते हैं । इसी को अमचूर कहते हैं । यह स्वाद में खट्टा और रुचिकारक है गुणों में दस्तावर और कफ – वातजित है । इसको दाल या तरकारी में डालते हैं तथा गहने और बर्तन भी इससे साफ करते हैं ।

आम के खास नुस्खे | Aam ke Nuskhe in Hindi | aam ke fayde

* आमपाक : दो किलो कच्चे आमों को छीलकर कतर लें । फिर दो लीटर पानी में पकाएं । जब आधा पानी रह जाए तब ठंडा कर धो लें । फलालेन के कपड़े में रस टपका लें । फिर इस अर्क के समान शक्कर मिलाकर पक्की चाशनी कर लें । इसे खाने से मन प्रसन्न रहता है । इसे अंगरेजी में ‘ मैंगो जैली ‘ कहते हैं।

* दुग्ध के साथ आम : दूध के साथ आम का सेवन अत्यंत लाभदायक है । यह स्वादिष्ट और रुचिवर्धक होने के साथ – साथ वातपित्त कफनाशक बलवर्धक , पौष्टिक और देह के वर्ण को निखारने वाला है ।

* आम की गुठली : आम की गुठली के गूदे में बहुत से पोषक तत्व सम्मिलित हैं । आयुर्वेद शास्त्र में इसका खूब उपयोग किया गया है ।

* गले के रोग : आम के पत्तों को जलाकर गले के अंदर धूनी देने से गले के अनेक रोग दूर होते हैं ।

* जी मिचलाना , पेट की जलन : आम की मिंगी के 5 ग्राम चूर्ण को दही के साथ मिलाकर सेवन करने से जी मिचलाना और पेट की जलन दूर होती है ।

* बिच्छू , ततैया , मकड़ी का विष : अमचूर को पानी में पीसकर विषैले स्थान पर लगाएं । इससे विष और फफोले में शीघ्र आराम होता है । फुसियां : आम की छाल पानी में घिसकर लगाएं ।

जामुन के फायदे | Jamun ke fayde

jamun

जामुन के सरल घरेलू नुस्खे | Jamun ke Nuskhe in Hindi

* जामुन स्वाद में खट्टा – मीठा होने के साथ- साथ स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद है । जामुन और आम का रस बराबर मात्रा में मिलाकर पीने से मधुमेह के रोगियों को लाभ होता है यह त्वचा का रंग बनाने वाली रंजक द्रव्य मेलानिन कोशिका को सक्रिय करता है । अतः यह रक्तहीनता तथा ल्यूकोडर्मा की उत्तम औषधि है ।

* गठिया के उपचार में भी जामुन बहुत उपयोगी है । इसकी छाल को खूब उबालकर बचे हुए घोल का लेप घुटनों पर लगाने से गठिया में आराम मिलता है । इसमें उत्तम किस्म का शीघ्र अवशोषित होकर रक्त निर्माण में भाग लेने वाला तांबा पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है ।

* इतना ध्यान रहे कि अधिक मात्रा में जामुन खाने से शरीर में जकड़न एवं बुखार होने की सम्भावना भी रहती है । इसे कभी खाली पेट नहीं खाना चाहिए और न ही इसको खाने के बाद दूध पीना चाहिए ।

* विषैले जंतुओं के काटने पर जामुन की पत्तियों का रस पिलाना चाहिए । काटे गए स्थान पर इसकी ताजी पत्तियों का पुल्टिस बांधने से घाव स्वच्छ होकर ठीक होने लगता है क्योंकि जामुन के चिकने पत्तों में नमी सोखने की अद्भुत क्षमता होती है जामुन यकृत को शक्ति प्रदान करता है और मूत्राशय में आई असामान्यता को सामान्य बनाने में सहायक होता है ।

* जामुन का रस , शहद , आंवले या गुलाब के फूल का रस बराबर मात्रा में मिलाकर एक – दो माह तक प्रतिदिन सुबह के वक्त सेवन करने से रक्त की कमी एवं शारीरिक दुर्बलता दूर होती है । इसके प्रतिदिन उपयोग से स्मरण शक्ति बढ़ जाती है ।

* जामुन के एक किलोग्राम ताजे फलों का रस निकालकर , अढ़ाई किलोग्राम चीनी मिलाकर शरबत जैसी चाशनी बना लें । इसे एक ढक्कनदार साफ बोतल में भर कर रख लें । जब कभी उल्टी – दस्त या हैजा जैसी बीमारी की शिकायत हो , तब दो चम्मच शरबत और एक चम्मच अमृतधारा मिलाकर पिलाने से तुरंत राहत मिल जाती है ।

* जामुन की छाल को बारीक पीसकर हर रोज मंजन करने से दांत मजबूत और रोगरहित होते हैं । – एसिडिटी होने पर जामुन को काला नमक के साथ सेवन कीजिए ।

यह भी पढ़ें।

* Grapes in Hindi | Benefits of Grapes in Hindi | अंगूर के फायदे

* Acharya Chanakya in Hindi | आचार्य चाणक्य एक अमर कथा

* Speech On Mothers Day in Hindi | मदर्स डे

* Raksha Bandhan Essay in Hindi | रक्षा बंधन पर निबंध

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *